भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम / चेन्जेराई होव / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केवल हम ही नहीं थे
पीछे छूट जाने वालों में,
अंज़ीर का पेड़ भी खड़ा था
हमारे साथ ही ।

केवल हम ही नहीं थे
पीछे छूट जाने वालों में
जब तक कि आसमान
इनकार करता रहा था
हमें वीज़ा देने में ।

शुभ रात्रि, प्रिये !
हम इन्तज़ार करेंगे यों ही
किसी और फूल के खिलने तक ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

अब यही कविता मूल अँग्रेज़ी में पढ़िए

         Chenjerai Hove
                   WE

we were not
the only ones left;
the fig-tree stood by us.

we were not
the only ones left
until the sky refused us
a visa.

sweet dreams, dear
as we wait
for another flower to bloom.