भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हरिया उठता है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूल-से ही सही
सूख रही किसी शाख पर ठूंठ की
फूट आए जो कोंपल कहीं कोई

ठूंठ हो रहा
ठूंठ फिर ठूंठ नहीं रह जाता
हरिया उठता है मन-ही-मन
हरियाता है जैसे
भरा-पूरा गाछ कोई !