भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरि नाम सजीवन साँचा, खोजो गहि कै / ताले राम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरि नाम सजीवन साँचा, खोजो गहि कै ।। टेक।।
रात के बिसरल चकवा रे चकवा, प्रात मिलन वाके होइ
जो जन बिसरे राम भजन में, दिवस मिलनवा के राती।।
ओहि देसवा हंसा करु प्याना, जहाँ जाति ना पाँती
चान सुरुज दु मोसन बरिहैं, कुदरत वाके बाती।।
सुखल दह में कमल फुलाएल, कड़ी-कड़ी रहि छाती
कहे तोले सुन गिरधर योगी, हुलसत सद्गुरु के छाती।।