भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरी मेरे जीवन प्रान अधार / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग हमीर

हरी मेरे जीवन प्रान अधार।
और आसरो नाहीं तुम बिन तीनूं लोक मंझार॥

आप बिना मोहि कछु न सुहावै निरख्यौ सब संसार।
मीरा कहै मैं दासि रावरी दीज्यो मती बिसार॥

शब्दार्थ :- आसरो = सहारा। मंझार =में। रावरी =तुम्हारी।