भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरेक की रात / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरेक की ओर बढ़ाने के लिए मुझे मिले हैं दो हाथ,
नाम लेने के लिए मुझे मिले हैं दो होंठ,
दिखती नहीं आँखें, ऊँची हैं उन पर भौंहें-
प्रेम से अधिक अप्रेम पर होता है आश्चर्य ।

और क्रेमलिन के घण्टों से भी भारी घण्टा
बज रहा है मेरी छाती में अविराम !
किसे मालूम...यह ?
मुझे नहीं मालूम,
सम्भव है मातृभूमि का मुझे
मिलेगा नहीं आतिथ्य अधिक ।


रचनाकाल : 2 जुलाई 1916

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह