भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरेक सम्त ही पेड़ों पे थे हरे पत्ते / मेहर गेरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
हरेक सम्त ही पेड़ों पे थे हरे पत्ते
न जाने एक शजर के ही क्यों झड़े पत्ते

रुतों का फासला सदियों का फासला तो नहीं
जो अब झड़े है तो आ जाएंगे नये पत्ते

हवा-ए-तुन्द ने कैसा सितम किया बरपा
उड़ा के ले गये यादों के सिलसिले पत्ते

खिज़ां से पहले ही ख़ौफ़े-खिज़ां की नज़्र हुए
कहीं नहीं नज़र आते हरे-भरे पत्ते

तुम्हारे कुर्ब से सर-सब्ज़ था जो पेड़ कभी
मैं रोज़ देखता हूँ उसके सूखते पत्ते

ये बेनियाज़ हैं मंज़िल-रसीं की ख़्वाहिश से
हैं हमसफ़र मिरे पानी पे तैरते पत्ते।