भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरेपन का इतिहास / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखा भीतर तक
तभी तो पीला हुआ

पीला दिखता है
लेकिन पीला था नहीं

और आज भी
पीलेपन में इसके
हरेपन का इतिहास है!