भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरे पेड़ की जड़ में / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरे पेड़ की जड़ में
     थोड़ा नजदीक से
     देखा था एक दिन
     मिली कुछ सूखी पत्तियाँ
     सड़ी घास
     मरे कीड़े
     और काली मिट्टी।
     हरा जैसा कुछ नहीं था
     हरे पेड़ की जड़ में।