भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरे प्रकाश उपाध्याय/ परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोजपुर बिहार के एक गांव बैसाडीह थाना पीरो में जन्में हरे प्रकाश उपाध्याय की कवितायें अनेक पत्रिकाओं में प्रकाशित हुयी हैं ये कहानियां भी लिखतें हैं । इन्हे उत्कृष्ट लेखन के लिये अंकुर मिश्र स्मृति पुरस्कार प्राप्त हो चुका है। इनकी कविताओं में भाव बोध व्यापक है । वह ठेठ ग्रामीण संस्कृति के रीति रिवाजों के रचना संदर्भ में ऐतिहासिक परिवर्तन (क्रान्ति) को चित्रित करने की योग्यता रखते हैं । डॉ0 विश्वनाथ त्रिपाठी जी ने उनके कविता संग्रह खिलाड़ी दोस्त और अन्य कविताएँ / हरे प्रकाश उपाध्याय के प्राक्कथन में हरे प्रकाश उपाध्याय को जमीनी हकीकत का कवि बताया है।

अशोक कुमार शुक्ला--Dr. ashok shukla 09:56, 19 जनवरी 2012 (CST)