भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर गुनाह-ए-शोख़-ओ-सरकश दुश्ना-ए-ख़ूँरेज़ है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर गुनाह-ए-शोख़-ओ-सरकश दुश्‍ना-ए-ख़ूँरेज़ है
तेग़ इस अबरू की हरदम मारने कूँ तेज़ है

इश्‍क़ के दावे में इसकी बात रखती है असास
सुंबल-ए-ज़ुल्‍फ़-ए-परी सूँ जिसकूँ दस्‍त आवेज़ है

आज गुलगुश्‍त-ए-चमन का वक़्त है ऐ नौ बहार
बादा-ए-गुल रंग सूँ हर जाम-ए-गुल लबरेज़ है

जब सूँ तेरी ज़ुल्‍फ़ का साया पड़ा गुलशन मिनीं
तब सिती सहन-ए-चमन हर बार सुंबल ख़ेज़ है

सादा रूयाँ कूँ किया मुश्‍ताक़ अपने हुस्‍न का
शे'र तेरा ऐ 'वली' अज़ बस कि शौक़ अंगेज़ है