भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर घर में सडांध देती नाली है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर घर में सडांध देती नाली है।
बता, यह जिंदगी है या गाली है।

पीक की तरह थूकने पड़े असूल,
पैबंद भरी सत्य की दुशाली है।

बता, कौन-सा मुंह ले अब घर लौटें,
हर चेहरा आज वहां सवाली है।

इस तरह कौन चाहेगा अब जीना,
मर कर जीने की आदत डाली है।

न देना रहा, न लेना बचा बाकी,
बाहर-भीतर सब बिल्कुल ख़ाली है।