भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर बार/ एरिष फ़्रीड / प्रतिभा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मैं तुम्हारे बारे में सोचता हूँ
बनती है मेरे सर में
एक ख़ाली ज़गह
तुम्हारे लिए छिद्र का एक प्रकार
जिसमें कुछ भी नहीं,

मेरा दृढ विश्वास है
हर दिन के अन्त में
बहुत सारी ख़ाली ज़गह
सर में मेरे
रह जाएगी शेष
यदि मैं कुछ और सोचूँ।

मूल जर्मन से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय