भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हळकाई / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थां सूं अळगो करियो आपो,
फेरूं पाछी बावड़ी
तद दीन्यो मान।

थूं जद नावड़्यो नवी मंजलां
पाछो नीं बावड़्यो
थूं म्हारै बावडऩै री
इयां हळकाई कर दीनी।