भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा आएगी, खिड़कियां खोलो तो सही / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा आएगी, खिड़कियां खोलो तो सही।
आवाज असर दिखायेगी, बोलो तो सही!

क्या मजाल जो रोक ले बदचलन मौसम,
नाप लोगे आकाश, पंख खोलो तो सही!

लड़े बिना ही हार मानते आये अब तक,
अपने बाजुओं की ताक़त तोलो तो सही।

जुल्म की हवेलियां ढह जायेंगी खुद-ब-खुद
एक बार तूफान बनकर डोलो तो सही!

एक नहीं लाखों देंगे साथ तुम्हारा,
अपने भीतर जरा खुशबू घोलो तो सही!