भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा और पानी और पत्थर / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पानी ने खोल दिया पत्थर को
हवा ने छितराया पानी को
पत्थर ने रोका हवा को
पानी और हवा और पत्थर ।

हवा ने तराशा पत्थर को,
पत्थर एक प्याला बना पानी का,
बहता है पानी और बनता है हवा,
पत्थर और हवा और पानी ।

गाती है मुड़ती हुई हवा,
कलकल करता है पानी बहता हुआ,
पत्थर है स्थिर चुप है,
हवा और पानी और पत्थर

एक ही दूसरा और एक, दूसरे-सा नहीं,
छूछे नामों के बीच अपने
गुज़रते और खो वे जाते हैं,
पानी और पत्थर और हवा ।