भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा का विलाप-1 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पानी फाड़ता है अपनी ही छाती को
एक रहस्यमयी आवाज़ को अपनी ताक़त बतला कर
हवा भय को समर्पित करती अपना विलाप
गूँज बनती है टकरा कर

रचनाकाल : 21 अगस्त 2005, रोम

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस