भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा का विलाप-2 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़मीन यूँ ले रही है अँगड़ाई
जैसे कोई नाज़ुक दोशीजा
इश्क़ के चौराहे पर तन्हा खड़ी हो
और जो मुझे दूर, बहुत दूर दिखाई देती हो
एक क़हक़हे, एक गुलाब
एक सदी की तरह, जहाँ मैं पहुँच नहीं सकता

रचनाकाल : 21 अगस्त 2005, रोम

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस