भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा का विलाप-3 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे और मेरे बीच जवान हसरतों की दुनिया है
और धीरे धीरे सरकता बुढ़ापा
मैं पतझर के चेहरों में उलझा हूँ
और तुम वसन्त के दिल में खिल रही हो ।

रचनाकाल : 21 अगस्त 2005, रोम

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस