भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा बहे रसे-रसे घुमड़इ कजरिया / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हवा बहे रसे-रसे घुमड़इ कजरिया,
जिया कहे चल-चल पिया के नगरिया।

जहिया से सइँया मोरा गेलन विदेसवा,
आवे न अपने न भेजे कोई सनेसवा।

लिलचा के रह जाहे ललकल नजरिया.
जिया कहे चल-चल पिया के नगरिया।

जाड़ा जड़ाई गेलई सउँसे ई देहिया,
गरमी में सब जरई सबरे सनेहिया।

जियरा डेराय रामा छाय घटा करिया
जिया कहे चल-चल पिया के नगरिया।