भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हवा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ दिन पहले
तुम बांध रहे थे उसकी हवा
आज इसकी बांधने में लगे हो
हो सकता है—
कल किसी तीसरे की बांधने निकल पड़ो

और तीसरे तक पहुंचते-पहुंचते
रास्ते में ही बदल जाए हवा
तो चौथे की तरफ चल पड़ना
        शर्म की बात तो है नहीं


हवा की क्या
हवा तो बदलती ही रहती है !

बदलना ही धर्म है हवा का
    जानते हो तुम
        तुम्हें हम

तुम्हें कोई दोष नहीं दोस्त !
हवा के समानधर्मा जो हो तुम !