भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाँ ग़ैरते-ख़ुर्शीद हैं और रश्क़े-क़मर आप / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाँ ग़ैरते-ख़ुर्शीद हैं और रश्क़े-क़मर आप
माहौल चमक उठता है जाते हैं जिधर आप

क़ायम रहे, दायम रहे ये हुस्न का आलम
देखें न कभी शामे-जवानी की सहर आप

ये दिन भी दिखाये हैं मुझे बख़्ते-ज़बूं ने
करने लगे रातें बसर अब ग़ैर के घर आप

क्या मर के भी अब जीने न देंगे मुझे ऐदा
क्यों आये मिरी गोर पे बा-दीदाए-तर आप

आख़िर कोई हद भी है 'वफ़ा' बुलअजबी की
रखते हैं शबे-हिज्र में उम्मीदे-सहर आप।