भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हाँ ये सच है, गुज़रे दिन की बातें अक्सर करता है / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाँ ये सच है, गुज़रे दिन की बातें अक्सर करता है,
लेकिन माज़ी की गलियों में दिल जाने से डरता है ।

रफ़्ता-रफ़्ता मेरी जानिब मंज़िल बढ़ती आती है,
चुपके-चुपके मेरे हक़ में कौन दुआएँ करता है ।