भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाइकु-1 / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
आकाश बोला-
‘कोई एक बादल
गोद तो भरे ।’
2
मिट्टी का घड़ा
बूँद-बूँद रिसता
लो खाली हुआ ।
3
चाँदनी- पेड़
सफ़ेद फूलों-भरा
जगमगाए ।
4
हाँफ़ रही है
निढ़ाल दोपहरी
पेड़ों के तले ।
5
भाग्य की बात
दो पैसे की टिकुली
जा चढ़ी माथ ।
6
फूलों से लदा
भूला होशो -हवास
अमलतास ।