भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाइकु / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
जोगी वे पत्ते
पेड़ों के घर छोड़
निकल पड़े ।
2
प्यार से सेया
पंख आते ही उड़े
खाली है नीड़ ।
3
जपा कुसुम
खिले , दहके , झरे
तुम न फिरे ।
4
कुनमुनाया
बादल के कन्धे पे
उनींदा चाँद ।
5
वर्षा रानी का
सतरंगी दुपट्टा
नभ अटका ।
6
गाल दहके
किशोरी कनेर के
पाँव बहके