भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाज़िरी बही / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले छीन लो मेरा खेत
फिर मुझसे मज़दूरी कराओ

मेरी जितनी भर आज़ादी थी
उसे तुड़वा दो लठैतों से
फिर उसे
कारखाने की सीमेंट और बालू में
सनवा दो

उसके बाद
सालों साल
मसनद रोशन कर
डंडा संभाले बैठे रहो।

     
बांग्ला से अनुवाद : विश्वजीत सेन