भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथी हाथी / द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथी-हाथी बाल दे,
लोहे की दीवाल दे।
हाथी-हाथी बाल दे,
चाँदी की चौपाल दे।
हाथी-हाथी बाल दे,
सोने के किवाड़ दे।
हाथी-हाथी बाल दे,
मोतियों की माल दे।
हाथी-हाथी बाल दे,
अपने जैसी चाल दे।