भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ सेंनुरवा गे बेटी, खोंइछा जुड़ी पान / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हाथ सेंनुरवा गे बेटी, खोंइछा[1] जुड़ी[2] पान।
चलली दुलरइती गे बेटी, दादा दरवाज[3]॥1॥
सुतल[4] हल[5] जी दादा, उठल चेहाय[6]
कवन संजोगे गे बेटी, अयली दरवाज॥2॥
अरबो[7] न माँगियो जी दादा, दादी के सोहाग॥3॥
लेहु दुलरइते गे बेटी, अँचरा[8] पसार॥4॥
अँचरा के जोगवा[9] गे दादी, झरिय झुरि जाय।
मँगिया[10] के जोगवा गे दादी, जनम अहियात[11]॥5॥

शब्दार्थ
  1. आँचल का अग्रभाग
  2. जोड़ा
  3. दरवाजा, द्वार
  4. सोये
  5. थे
  6. अकचकाकर
  7. अर्ब-दर्ब-धन, दौलत
  8. आँचल
  9. आशीर्वाद रूप में प्राप्त होने वाला जोग-टोना
  10. माँग, सीमन्त
  11. अविधवात्व, सौभाग्य