भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाफ़िज़े का हुस्न दिखलाया है निस्यानी मुझे / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाफ़िज़े का हुस्‍न दिखलाया है निस्‍यानी मुझे
है कलीद-ए-क़ुफ़्ल-ए-दानिश तर्ज़-ए-नादानी मुझे

मौजज़न है दिल में मेरे हर रयन में पेचोताब
जब सूँ तेरी ज़ुल्‍फ़ ने दी है परीशानी मुझे

क्‍यूँ परीरूयाँ न आवें हुक्‍म में मेरे तमाम
तुझ दहन की याद है मुहर-ए-सुलेमानी मुझे

यक पलक दूजे पलक सूँ नईं हुई है आशना
जब सूँ तेरे हुस्‍न ने बख़्शी है हैरानी मुझे

ऐ 'वली' हक़ रफ़ाक़त के अदा करते भी क्‍या
मुस्‍तहक़्क़-ए-मग़फि़रत आलूदा दामानी मुझे