भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हाय आ किण री हाय लागगी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाय आ किण री हाय लागगी
घर में दीवां सूं लाय लागगी

आसीस तो देवणी ई पड़ी
भूख पगां घरां आय लागगी

बां शौकिया छोडी ही गोळी
उड़ती चिड़ी नै जाय लागगी

बात-बात में चाली ही बात
तीर-सी मत्तै ई आय लागगी

बरतो छोड हाथ सोधै चक्कू
आंनै कठै री बाय लागगी