भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हालत बड़े अजीब, दिल शाद नहीं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हालत बड़े अजीब, दिल शाद नहीं।
देखता हूं आदमी आबाद नहीं!

वेद औ’ कुरान पढ़ने में मशगूल,
ज़िंदगी का पहला सबक याद नहीं!

आप फलें-फूलें, पर हमें न रौंदें,
देखिये हम आदमी हैं, खाद नहीं!

इसी तरह रहा जुल्म, जोर जब्र तो,
मिलेगा आदमी इसके बाद नहीं।

खुशहाली कैसे हो बयां ग़ज़ल में,
सबके लिए यहां पानी-घास नहीं।