भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हालत बड़े अजीब, दिल शाद नहीं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हालत बड़े अजीब, दिल शाद नहीं।
देखता हूं आदमी आबाद नहीं!

वेद औ’ कुरान पढ़ने में मशगूल,
ज़िंदगी का पहला सबक याद नहीं!

आप फलें-फूलें, पर हमें न रौंदें,
देखिये हम आदमी हैं, खाद नहीं!

इसी तरह रहा जुल्म, जोर जब्र तो,
मिलेगा आदमी इसके बाद नहीं।

खुशहाली कैसे हो बयां ग़ज़ल में,
सबके लिए यहां पानी-घास नहीं।