भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हास / एरिष फ़्रीड / प्रतिभा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो गाना चाहता था
चाहता है अब केवल बोलना
 
जो बोलना चाहता था
चाहता है अब केवल शिकायत करना

जो शिकायत करना चाहता था
चाहता है अब केवल रोना

जो रोना चाहता था
चाहता है अब केवल सोना

जो सोना चाहता था
चाहता है अब केवल मरना

जो मरना चाहता था
चाहता है अब केवल
इनमें से एक को
अपने साथ ले जाना I

मूल जर्मन से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय