भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिंदी / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिंदी बोली
हिंदी दिवस सेलिब्रेट कर लिया
स्तब्ध मैं परेशान हो गया
समझ गयी वह
इसमें क्याहैं
तुम लोगो के बीच ही तो रहती हूँ मै
 फिर क्या उतर देता
  
अपनी भाषा देख रहा हूँ