भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिज्र की भी रात बसर हो गई / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिज्र की भी रात बसर हो गई
हो तो न सकती थी सहर हो गई

आइना है पेशे-नज़र रात दिन
तुम को तुम्हारी ही नज़र हो गई

मेरी अयादत को ये कौन आ गया
सब की नज़र जानिब-दर हो गई

देर मिरी जान के जाने की थी
जान गई और सहर हो गई

वक़्फ़े-मुसीबत रहे हम उम्र भर
उम्र मुसीबत में बसर हो गई

हाले-ज़बूं देख के मेरा 'वफ़ा'
कौन सी आंख आज न तर हो गई।