भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिनहिनाता घोड़ा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह एकांत
यह कमरा
रेशमी अंधेरा ओढ़े
सुगंध बिखेरती संदली देह
छूते ही देह
नस-नस में
तनतनाता है
पानी
लगता है
मैं
मैं नहीं
हिनहिनाता घोड़ा हूं !