भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हुवै जद म्हारै सागै भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुवै जद म्हारै सागै भायला
आ सांस सोरी लागै भायला

अब कोसां तांई चाल्या बगसूं
सोच कांई है आगै भायला

आ बाजी जीतांला आपां ई
मन में आ आस जागै भायला

छोड छिटका परै जाता म्हैं ई
बांध्या कंवळै धागै भायला

आ ओळूं ई धन थारो-म्हारो
आई चालसी सागै भायला