भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुवै रंग हजार (कविता) / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं आ कद कैवूं
म्हैं कोनी कथी आ बात –
थे-म्हैं एक !

पण
थां कनै पूगी जिकी बात
बा म्हारी कोनी
अरथ पछै कियां हो सकै म्हारो ?

जरूरत है इत्ती-सी बात जाणन री –
आ दुनिया है बाजार
अर हवा रा हुवै रंग हजार !