भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुस्न तेरा सुर्ज पे फ़ाजि़ल है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुस्‍न तेरा सुर्ज पे फ़ाजि़ल है
मुख तिरा रश्‍क-ए-मात-ए-कामिल है

हुस्‍न के दर्स में लिया जो सबक़
मुझ नजिक फ़ाजिल-ओ-मुकम्मिल है

रात-दिन तुझ जमाल-ए-रौशन सूँ
फ़ज़्ल-ए-परवरदिगार शामिल है

जिसकूँ तुझ हुस्‍न की नईं है ख़बर
बेगुमाँ वो जहाँ में ग़ाफि़ल है

ज़ाद-ए-रह दिल सूँ जो बग़ल में लिया
इश्‍क़ के पंथ में वो आकि़ल है

इश्‍क़ की राह के मुसाफि़र कूँ
हर क़दम तुझ गली में मंजि़ल है

ऐ 'वली' तर्ज़-ए-इश्‍क़ आसाँ नहीं
आज़माया हूँ मैं कि मुश्किल है