भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुस्न फिर फ़ित्नागार है क्या कहिये / मजाज़ लखनवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
हुस्न फिर फ़ित्नागार है क्या कहिए ।
दिल की जानिब नज़र है क्या कहिए ।

फिर वही रहगुज़र है क्या कहिए,
ज़िन्दगी राहबर है क्या कहिए ।

हुस्न ख़ुद पर्दादार है क्या कहिए,
ये हमारी नज़र है क्या कहिए ।

आह तो बे-असर थी बरसों से,
नग़्मा भी बे-असर है क्या कहिए ।

हुस्न है अब न हुस्न के जलवे,
अब नज़र ही नज़र है क्या कहिए ।

आज भी है 'मज़ाज़' ख़ाकनशीं,
और नज़र अर्श पर है क्या कहिए ।