भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हूणियै रा होरठा (1) / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूकै अकरै तावड़ै
हाड मांस रा बोल
रगड़यां सांसो सांस
जगै हगड़ता हूणिया

आखर तो खीरां जिसा
चुगतां लागै डांभ
आला लीला बाळ
जगरौ तापै हूणिया

आखर रो सत ऊजळो
आखर रूप अकूत
आखर-चेतौ एक
हिरदै धारै हूणिया

आखर जुड़ बोली बणै
बोली उपजै हेत
हेत जूण रो सार
होठां राखै हूणिया

हेत हियै में ऊपजै
हुवै रगत - सौ लाल
उगटै हुवै हजार
रातौ एक न हूणिया

थूं नीं जाणै हेत री
बारखड़ी रो अर्थ
आखर लिखै अणूत
अबखौ लागै हूणिया

थै नीं देखी मावड़ी
थै नीं देख्यौ बाप
हेलाहेल मचा’र
थूक बिलावै हूणिया

हर तक गिटले हेत री
जीमै मसळ पिछाण
लेवै नहीं डकार
कांसारोणी हूणिया