भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हूणियै रा होरठा (5) / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सीयाळै में तापलै
रगड़ हाड सूं हाड
ऊनाळै उकळीज
ठरै पसीणै हूणिया

गिट सीयाळै डांफरांे
लू ऊनाळां पी’र
आया जुग-जुग जी’र
जुग-जुग जीसी हूणिया

गाभण हुयलै छांट सूं
बांझ बाजती रेत
जामै हरियल टांच
मोठ बाजरी हूणिया

बिछी जमीं नै पसरलै
आभौ लेवै ओढ
रातां गीला होय
दिन में सूकै हूणिया

आभौ आंरी अंगरखी
तावड़ियौ है पाग
हवा अंगोछो हाथ
रेत पगरखी हूणिया

मोठ बाजरी मूंग गऊँ
रळा बणावै खीच
दांतां तळै दळीज
जीभ छोलसी हूणिया

लीलां लीलां चरण री
पड़ी जकां नै बाण
एकर सी तौ चाल
भाठा पुरसां हूणिया

मीठा-मीठा लेयग्या
बाजार मोठ मतीर
एकर तूंबा बीज
भूख जीमतौ हूणिया