भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हेठ वगे दरिया ते ऊपर मैं खड़ी / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हेठ वगे दरिया
 ते ऊपर मैं खड़ी,
मेरे वीरे लवाया बाग
 खिड पई चंबा कली,
चंबा कली न तोड़
 वीर मेरा मारुगा,
वीरा मेरा सरदार
 बैठे कुर्सी ते,
भाबो मेरी परधान
 बैवे रत्ते पीढ़े,
रत्तड़ा पीढ़ा चीकदा
 भाबो नु उड़ीकदा,
भाबो कोलों आइयाँ,
 झग्गा चुन्नी लेआइयाँ।