भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हेली रातूं जागै थूक बिलोवां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हेली रातूं जागै थूक बिलोवां
घर सूं कांई लागै थूक बिलोवां

देखो अबै सांस आवैला सोरी
नाक कटाई नागै थूक बिलोवां

काम रै नांव रैयो औ ई काम
आवो बैठां सागै थूक बिलोवां

ताका-झाका करती पाड़ौसी री
छोरी घर सूं भागै थूक बिलोवां

शहर सूं बावड़ बतावै बाबूड़ो
बै सीटी सुण भागै थूक बिलोवां