भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हेलो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर छोरी रै
हाथां सूं छिटकग्यो
सिंदूर भरियो घड़ो

बिरछां माथै
चिड़कल्यां करण लागी
चीं-चीं … चीं-चीं

चूल्हा चेत्या
पगां में सुळबुळाट
एक हेलो-
उठो
काम माथै हालो !