भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे मेरी तुम सोई सरिता ! / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे मेरी तुम सोई सरिता !
उठो,
         और लहरों-सी नाचो
तब तक, जब तक
आलिंगन में नहीं बाँध लूँ
              और चूम लूँ

                     तुमको !
मैं मिलने आया बादल हूँ !!