भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे हर विपति पड़ल सिर भारी / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हे हर विपति पड़ल सिर भारी
अन्न-बसन बिनु तन-मन बेकल, पुरजन भेल दुखारी हे
अपन कि आन कान नहि सूनय, गूनय जानि भिखारी हे
मंगने कहय हाथ अछि खाली, रहितो द्वार बखारी हे
गंग नियर बसु गायब हम हँसि बनब जे तोर पुजारी हे
अछैत मनोरथ सभ भेल बेरथ, बनलहुँ अन्त भिखारी हे
लिखल-पढ़ल कत बात गढ़ल कत, किछुओ ने भेल हितकारी हे
शशिनाथ माथ पद टेकल, आबहु लएह उबारी हे