भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

है कलेजा फ़िग़ार होने को / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



है कलेजा फ़िगार[1] होने को
दामने-लालाज़ार होने को

इश्क़ वो चीज़ है कि जिसमें क़रार[2]
चाहिए बेक़रार होने को

जुस्तजू-ए-क़फ़स[3] है मेरे लिए
ख़ूब समझे शिकार होने को

पीस डाला है आसमाँ ने मुझे
किसकी रह[4] का ग़ुबार होने को

क्या अदा थी वो जाँनिसारी[5] में
थे वो मुझपर निसार[6] होने को

वादा करते हुए न रुक जाओ
है मुझे एतबार[7] होने को

उसने पूछा कि कौन छुपता है
हम छुपे आशकार[8] होने को

हमने ‘इक़बाल’ इश्क़बाज़ी की
पी ये मय[9] होशियार होने को

शब्दार्थ
  1. घायल
  2. चैन
  3. पिंजरे की अभिलाषा
  4. राह
  5. जान छिड़कने
  6. न्योछावर
  7. विश्वास
  8. प्रकट
  9. शराब,सुरा