भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

है कोई संत राम अनुरागी / दरिया साहब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है कोई संत राम अनुरागी, जाकी सुरत साहबसे लागी॥
अरस-परस पिवके सँग राती, होय रही पतिबरता।
दुनियाँ भाव कछू नहिं समझै, ज्यों समुँद समानी सरिता॥
मीन जाय करि समुँद समानी, जहँ देखै तहँ पानी।
काल कीरका जाल न पहँचे, निर्भय ठौर लुभानी॥
बावन चन्दन भौरा, पहुँचा, जहँ बैठे तहँ गन्धा।
उड़ना छोड़के थिर ह्वै बैठा, निसदिन करत अनन्दा॥
जन दरिया, इक राम-भजन कर भरम बासना खोई।
पारस परसि भया लोहकंचन, बहुरि न लोहा होई॥