भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

है नीं मा ? / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां ऽऽ
देख
औ म्हैं हूं मा
आ म्हारी
आंख है मा
आंख में
तिल है मा
तिल में
तूं है मा
आंख रै तिल सूं
दुनिया है मा
म्हारी दुनिया
तूं है मा

है नीं मा ?