भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

है मेरो मनमोहना, आयो नहीं सखी री / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग सारंग


है मेरो मनमोहना, आयो नहीं सखी री॥
कैं कहुं काज किया संतन का, कै कहुं गैल भुलावना॥
कहा करूं कित जाऊं मेरी सजनी, लाग्यो है बिरह सतावना॥
मीरा दासी दरसण प्यासी, हरिचरणां चित लावना॥

शब्दार्थ :-काज =काम। गैल = रास्ता। लावना =लगाना है।