भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

है मोहब्बत सब को उस के अबरू-ए-ख़मदार की / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है मोहब्बत सब को उस के अबरू-ए-ख़मदार की
हिन्द में क्या आबरू बाक़ी रही तल्वार की

वस्ल की शब चाँदनी दीवार से जाने न पाए
मिन्नतें करता हूँ हर ख़ार-ए-सर-ए-दीवार की

उस्तुरा फिरने से रू-ए-यार पर है दौर-ए-ख़त
चाल उस कम-बख़्त ने सीखी है क्या परकार की

नश्शा-ए-मय का गुमाँ करने लगा वो बद-गुमाँ
देख कर सुर्ख़ी हमारे दीदा-ए-ख़ूँ-बार की

घर भी मेरा मुंतज़िर है यार का मेरी तरह
रौज़न-ए-दर में है सूरत दीदा-ए-बेदार की

कहते हो हम ख़्वाब में आते जो सोता कभी
ख़ूब की बर्बाद मेहनत दीदा-ए-बेदार की

बाग़-ए-आलम में कहाँ है कोई मुझ सा रहम-दिल
रोज़ करता हूँ अयादत नर्गिस-ए-बीमार की

दाग़-ए-सर हैं जोश-ए-सौदा में ब-रंग-ए-गुल मुझे
मिस्ल-ए-गुलबुन पाँव में कब है शिकायत ख़ार की

वो ख़ुदा का दोस्त है और दोस्त है उस का ख़ुदा
क्यूँ न हो ‘नासिख़’ मोहब्बत हैदर-ए-कर्रार की